शमशान भूमि कमेटी के पदाधिकारियों ने युवा जितेन्द्र कुमार रैगर की किराये की दुकान को तोड़कर आर्थिक और मानसिक रूप से परेशान कर रहे है

0
1799

दिल्ली, समाजहित एक्सप्रेस (रघुबीर सिंह गाड़ेगाँवलिया) । आज की बड़ी समस्या ये है, मनुष्य एक सामाजिक प्राणि है ओर समाज के बीच रहते हुऐ उसे सभी सामाजिक दायित्वो का निर्वहन करना पडता है । बैरोजगारी ने भी अपने पॉव पसारे है ओर रोजगार हेतु युवा व्यवसाय के लिये दुकान किराये पर लेते है । सम्पति धारक किरायेदार को पगडी जैसी प्रथा के तहत एक मोटी रकम का भुगतान करने के लिये मजबुर करते है ओर किरायेदार भी अपनी जरुरत को देखते हुए मजबुरी मे मोटी रकम का भुगतान करते भी है । रकम के बदले सम्पति धारक किरायेदार को रसीद भी नहीं देते l 10% किराया भी हर वर्ष बढ़ा देते है l

कानून का ठीक से पालन नहीं होने के कारण अधिकतर किरायेदारों को प्रतिदिन मानसिक प्रताड़ना से गुजरना पड़ता है । सम्पति धारको/संस्था की ऐसी मनमानी छूट से अरबों-खरबों रूपये का लेन-देन बिना आयकर विभाग की जानकारी के होता है साथ हीं सरकारी राजस्व को प्रति वर्ष लाखों-करोड़ो का चुना लगता है । आज ऐसा ही एक मामला सुनाम पंजाब से सामने आया है :-

अनुसूचित जाति का युवा जितेन्द्र कुमार रैगर जोकि सुनाम, पंजाब का रहने वाला है और उसने अपना व्यवसाय चलाने के लिए शमशान भूमि कमेटी आली पत्ती (रजि०) सुनाम-148028 (पंजाब) को 1 लाख 50 हज़ार रुपये डोनेशन देकर शॉप नंबर 73 किराये पर ली, जिसकी संस्था द्वारा उसको कोई रसीद नहीं दी गई l शमशान भूमि कमेटी के पास 356 दुकाने है l

जितेन्द्र कुमार रैगर ने आगे बताया कि मेरी दुकान सड़क से नीचे थी तो दुकान में बरसात का पानी घुस जाता था तो मैंने उसे ऊँचा किया तब भी शमशान भूमि कमेटी ने मुझ से 50,000/- रुपए डोनेशन के रूप लिए और उसकी भी कोई रसीद नहीं दी, और जो किराया चल रहा था उसका 10% यानि 50 रूपये बढ़ा कर 550 रूपये प्रति महिना कर दिया l बढ़ा हुआ किराया भी मैं बराबर देता रहा हूँ l

जितेन्द्र कुमार रैगर ने कहा कि मेरी दुकान की फर्श उची होने से छत नीचे हो गई तो मैंने अपनी दुकान ऊँची करवायी तो इन्होने मेरी दुकान तुडवा दी, जिसके कारण मुझे 60-80 हज़ार रूपये का नुक्सान हो गया और मुझे ये संस्था वाले आकर मेरी जाति को नीच कहकर मुझे डराने धमकाने लगे है l इस संस्था ने अपने कानून व् रूल हर दुकान के लिए अलग अलग ही बना रखे है जो जितने ज्यादा पैसे देते है उस दूकानदार को उतनी ही ऊँची दुकान करने की इजाजत देते है l इस संस्था वालो ने धर्म के नाम पर लूट मचा रखी है l

जितेन्द्र कुमार रैगर ने पुलिस और प्रशासन से विन्रम निवेदन किया है कि मुझे शमशान भूमि कमेटी आली पत्ती (रजि०) सुनाम-148028 (पंजाब) के 11 पदाधिकारियों के अन्याय से बचाया जाय और मेरे मामले की निष्पक्ष जाँच करवाकर मुझे न्याय दिलवाये l

क्या सामाजिक संस्थाओ में पदाधिकारियों का चयन चुनाव प्रक्रिया के द्वारा होना चाहिए ?

View Results

Loading ... Loading ...

 

LEAVE A REPLY