अखिल भारतीय रैगर महासभा से रैगर मतदाताओं की नाराजगी व शिकायत

0
377

दिल्ली, समाजहित एक्सप्रेस (रघुबीर सिंह गाड़ेगाँवलिया) । अखिल भारतीय रैगर महासभा (पंजीकृत) के 3 मार्च 2019 को होने वाले चुनावों के लिए बीकानेर और नीमच, मध्य प्रदेश के रैगर मतदाताओ ने कहा है चुनाव लड़ रहे दोनों पैनल के प्रत्याशियों में से किसी ने कोई संपर्क नहीं किया l जबकि सभी जगह दोनों पैनल के प्रत्याशी मतदाताओं से जनसंपर्क कर रहे है l हम लोगो को मुर्ख बना कर हमे सदस्य बनाया गया l इस बात को लेकर लोग नाराज है l कई सदस्यों की सदस्यता रसीद काटने के बाद भी मतदाताओं का नाम सूची से नदारद है की शिकायत है l

समाजहित एक्सप्रेस पर प्रसारित होने वाले हिंदी समाचार के निशुल्क अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें l

बीकानेर से हीरालाल तोंगरिया ने समाजहित को फोन पर बताया कि जब अखिल भारतीय रैगर महासभा से चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों के लिए बीकानेर के रेगर समाज के लोग मतदाता होने के बावजूद क्या रैगर नहीं है जो उनके साथ भेदभाव बरता जा रहा है जब मेम्बर बना रहे थे तब तो सभी सम्पर्क कर सदस्य बना लिए और अब जो अध्यक्ष पद के लिये चुनाव में खड़े हैं उन दोनों में किसी ने भी बीकानेर संभाग व बीकानेर जिले से संपर्क नहीं किया इसका क्या मतलब समझे? हम लोगों ने दिन रात मेहनत करके 200 लोगों को मेंबर बनाये। क्या उनका दायित्व नहीं बनता कि वोट देने के लिए उन्हें सुविधा उपलब्ध कराए? हम वोट देने जयपुर कैसे जाएं? हम क्या करें समझ नहीं आता? हमारे साथ इन लोगो ने धोखा किया है l इस बात को लेकर यहाँ के लोग नाराज है l

 

नीमच, मध्य प्रदेश के बाबूलाल आर्या ने भी समाजहित को फोन पर बताया कि अखिल भारतीय रैगर महासभा से चुनाव लड़ रहे दोनों पैनल के प्रत्याशियों ने हमारे यहाँ किसी प्रकार का कोई सम्पर्क नहीं किया गया l उन्होंने बताया कि हम लोगो ने बड़ी मेहनत करके लगभग 150 सदस्य बनाये थे जब सदस्य बनाये जा रहे उस समय हम से कहा गया था कि जितनी राशि आपके यहाँ से सदस्यता बनाने से प्राप्त होगी उसका 25% हिस्सा आपकी ईकाई को दिया जायेगा, परन्तु आजतक एक रुपया भी हमे नहीं लौटाया गया l अब हम ईकाई चलाने के लिए कहाँ से खर्च करें l अखिल भारतीय रैगर महासभा ने हमारे साथ सरासर अन्याय किया है l इस बात हम सभी को दुःख है l

दिल्ली से रवि शंकर देवतवाल और राजस्थान से रामसहाय जाजोरिया की शिकायत है कि हम लोगो से सदस्यता शुल्क वसूल लिया और रसीद काटकर दी लेकिन हमारा नाम मतदाता सूचि में नहीं चढ़ाया l रामसहाय जाजोरिया ने तो सोशल मिडिया में लिखा है कि अखिल भारतीय रेगर महासभा के अध्यक्ष बी एल नवल(खटनावलिया) के कार्यकाल में सदस्यता के नाम पर ऐसी फर्जी रशीद काटकर फर्जीवाड़ा होता रहा और उनको मालूम तक नहीं तो सोचो उनके कार्यालय में क्या कोई घोटाला नही हुआ होगा । और जो अध्यक्ष अपने कार्यालय के लेंन देंन की देख रेख नही रख(करवा) सकता वह समाज के हितों की रक्षा कैसे करेगा ।

LEAVE A REPLY