रैगर समाज को लोकसभा चुनाव-2019 में एकजुटता दिखानी होगी, तभी समाज का विकास होगा

0
382

 रघुबीर सिंह गाड़ेगाँवलिया

दिल्ली, समाजहित एक्सप्रेस l रैगर समाज की लोकसभा में प्रतिनिधित्व की मांग को भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी के शीर्ष नेताओ ने ठुकरा दिया l भारतवर्ष में कहीं से भी रैगर समाज के व्यक्ति को दोनों राजनैतिक पार्टियों ने टिकट नहीं दिया, यह एक गंभीर विषय है जो समाज के लिए विचारणीय है l बहुजन समाज पार्टी ने रैगर समाज के दो प्रतिष्ठित लोगो को उम्मीदवार बनाया है l अजमेर लोकसभा क्षेत्र से कर्नल दुर्गा लाल रैगर और जयपुर लोकसभा क्षेत्र से पूर्व IAS उमराव सालोदिया को टिकट दिया है l

समाजहित एक्सप्रेस पर प्रसारित होने वाले हिंदी समाचार के निशुल्क अपडेट लगातार प्राप्त करने के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करें l

अब रैगर समाज की परीक्षा की घडी है, जो रैगर समाज की दिग्गज संस्थाओ के पदाधिकारी मंच से सभाओ को संबोधित करते हुए संसद में रैगर समाज के प्रतिनिधित्व की बात करते थे उन सब को सभी राजनैतिक बंधन तोड़कर रैगर समाज के इन प्रत्याशियों का समर्थन करने की सार्वजानिक घोषणा करनी चाहिए l यदि ये सभी सामाजिक नेता ऐसी घोषणा नहीं करते तो ये सीधा समाज को सन्देश जाता है कि इन दिग्गज संस्थाओ के पदाधिकारी केवल समाज के सामने थोथी बातें करते है इन्हें रैगर समाज की कोई चिंता नहीं है l

ये लेख लिखे जाने तक देखने में आया है कि किसी भी रैगर समाज की दिग्गज संस्थाओ ने समाज के इन दोनों प्रत्याशियों के समर्थन के लिए लिखित में या सार्वजानिक मंच से कोई घोषणा नहीं की है l ये भी समाज के लिए गंभीर और विचारणीय विषय है l वर्तमान स्थिति में प्रमुख राजनैतिक दल भारतीय जनता पार्टी और कांग्रेस पार्टी ने रैगर समाज को कोई महत्व नहीं दिया हो सकता है भविष्य में बहुजन समाज पार्टी भी समाज की अनदेखी कर दे l

अगर रैगर समाज ने अपनी एकजुटता का परिचय नहीं दिया तो समाज का राजनैतिक पतन कोई नहीं रोक सकता और आने वाली समाज की पीढ़ी समाज की दिग्गज कहलाने वाली संस्थाओ को कोसने के अलावा उनके पास कोई विकल्प नहीं होगा l इसलिए इस मामले पर समाज को परिपक्व सोच समझ के साथ सकारत्मकता दिखानी चाहिए l

( इस लेख में लेखक ने अपने निजी विचार व्यक्त किए हैं l )

LEAVE A REPLY