खबर का असर जयपुर क्लेक्टर ने मनरेगा श्रमिकों के कार्य का समय बदला

0
362

प्रात: 7:00 बजे से शाम 3:00 बजे तक का हुआ समय

दिल्ली, समाजहित एक्सप्रेस (रघुबीर सिंह गाड़ेगाँवलिया) । जयपुर, ग्लोबल इंस्टिट्यूट ऑफ़ अल्टरनेट साइंस के वरिष्ठ सचिव तरुण बाकोलिया,अन्तर्राष्ट्रीय वरिष्ठ सदस्य पूरणमल बुनकर,सुरजभान बडकोदिया आदि ने तेज गर्मी में नरेगा का समय परिवर्तन की मांग को लेकर जयपुर कलेक्टर जगरूप सिंह यादव के नाम सुरेश कुमार दाधीच,अति.जिला कार्यक्रम समन्वयक मनरेगा,जिला परिषद को ज्ञापन सौंपकर शीध्र राहत देने का आग्रह किया था ।
ज्ञापन मे बताया कि एक सप्ताह से भीषण गर्मी का दौर चल रहा है। जिससे आम जनजीवन प्रभावित हो रहा है। तेज गर्मी के इस दौर में भी महानरेगा के अंतर्गत कार्यों का समय सुबह नौ बजे से ही चल रहा है। ऐसे में नरेगा श्रमिकों को कार्य करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। गर्मी की चपेट में आकर मजदूरों के बीमार पड़ने की आशंका है।
जयपुर जिला कलेक्टर जगरूप सिंह यादव ने श्रमिक के स्वास्थ्य हितों को ध्यान में रखते हुए महानरेगा कार्यों का समय सुबह 7 बजे से शाम 3:00 बजे तक  किया। साथ ही कार्य स्थलों पर श्रमिकों के लिए छाया (टेंट), आवश्यक दवाईयों तथा शुद्ध पेयजल आदि सरकारी मापदंडों के अनुसार व्यवस्थाएं राजस्थानी भी दुरुस्त करने के आदेश दिए।महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारण्टी अधिनियम 2005 के अनुसार मनरेगा श्रमिकों की 8 घण्टे की कार्य अवधि मय एक घण्टे के विश्राम काल निर्धारित है।बुनकर ने बताया कि जिले की भौगोलिक परिस्थितियों को मध्यनजर रखते हुए महात्मा गांधी नरेगा योजना का समय प्रातः 7 बजे से मध्यान्ह् पश्चात 3 बजे तक (एक घंटा भोजन अवकाश सम्मिलत करते हुए) निर्धारित किया गया है ।
कार्य समय इस प्रकार निर्धारित किया जावे कि कार्य अवधि 8 घण्टे मय एक घण्टे विश्राम काल के हो। विश्राम काल का प्रावधान नहीं रखने की स्थिति में 7 घण्टे की कार्य अवधि निर्धारित की जाये। यदि कोई श्रमिक समूह समय से पूर्व निर्धारित टास्क के अनुसार कार्य पूर्ण कर लेता है तो वह कार्य की माप मेट के पास उपलब्ध मस्टररोल में अंकित टास्क प्रपत्र में करवाने के उपरान्त एवं समूह के मुखिया के हस्ताक्षर के अपरान्त कार्यस्थल छोड़ सकता है। यह आदेश तुरन्त प्रभाव से लागू हो गये तथा अग्रिम आदेशों तक प्रभावी रहेंगे।

LEAVE A REPLY